Call Us : (+91) 0755 4096900-06 - Mail : bloggerspark@scratchmysoul.com

Shamim Akhtar : Blogs

Blog

क्या उत्तर पूर्व की जनता भारत के नागरिक नहीं हैं ?

पिछले कुछ वर्षों में , पुरे भारत में और विशेषकर दिल्ली में, उत्तर पूर्व के लोगों के साथ होने वाला व्यवहार मुझे विचलित करता रहा है.

बहुत साल पहले , जब मैं बीस वर्ष का था , मैं पटना से अपनी सौ सीसी की मोटरबाइक पर नागालैंड तक गया था. वहां की आबो हवा और लोगों के सरल व्यवहार का मुझ पे गहरा असर हुआ था. फिर समय के साथ साथ , मेरे दिल्ली बस जाने के कारण, मेरा उत्तर पूर्व की ओर जाना नहीं हो पाया.

पिछले वर्ष , जब दिल्ली के लाजपत नगर में एक अरुणाचल प्रदेश के नवयुवक की हत्या कर दी गयी , तो मैं अपने आप को नहीं रोक पाया और तीन महीने की छुट्टी लेकर मैंने अपनी बुलेट मोटरबाइक पे पुरे उत्तर पूर्व का अकेले भ्रमण किया.

सारी सुनी सुनाई बातें , बेमानी लगी. आज के समय पुरे उत्तर पूर्व में शांति है और लोग आज भी वैसे ही लगे जैसे मैं ने लगभग बाइस वर्ष पहले देखा था. उत्तर पूर्व पे मैं दो किताबें ( सचित्र ) लिखने का प्रयास कर रहा हूँ . लेकिन अभी हाल ही में जब एक मणिपुरी युवक क़ी दिल्ली के कोटला मुबारकपुर में हत्या कर दी गयी , तो ऐसा महसूस हो रहा है की शायद उत्तर पूर्व के नागरिकों के जीवन का कोई मूल्य ही नहीं है.

मैं एक संवेदनशील नागरिक होने के नाते , दिल्ली में एक रैली करने का प्रयास कर रहा हूँ , जिसके माध्यम से हम अपने उत्तर पूर्व के बहिनओ और भाइयों को सन्देश दे सके कि सारे के सारे भारतीय अमानवीय नहीं हैं.

इस सन्दर्भ में , मैं SMS कि माध्यम से कुछ प्रश्न भारत के बुद्धिजीवियों के समक्छ रखना चाहता हूँ ...


कितने भारतीय उत्तर पूर्व के सातों प्रदेश का नाम जानते हैं ?

कितने भारतीय उत्तर पूर्व के सातों प्रदेश की राजधानी का नाम जानते हैं ?

कितने भारतियों को पता है की नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की आज़ाद हिन्द फ़ौज़ ने पहला तिरंगा मणिपुर में लहराया था ?

क्या हमें पता है कि मैत्ये नाम कि जाति जो मणिपुर में रहती है , वह सात्विक हिन्दू हैं और उनका नृत्य " महारास" भारत क़ी शान है ?

इस सन्दर्भ में मैं याद करना चाहता हूँ कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम की नीव महात्मा गांधी ने दक्छिन अफ्रीका में अंग्रेजों के नस्लवाद के विरोध से रखा था . क्या आज के आज़ाद भारत में अपने ही लोगों के प्रति हमारा यह उत्तर पूर्व के साथ होने वाला नस्लवाद उचित है ?

वास्तु के अनुसार घर का उत्तर पूर्व का कोना मंदिर ( ईश्वर) का स्थान होता है. और देश के उत्तर पूर्व कोने और उनके लोगों के प्रति हमारा यह व्यवहार किस दृष्टिकोण से बर्दाश्त किया जाना चाहिए.

मैं सारे भारतयीयों से विनम्र निवेदन करता हूँ , कृपया अगली छुट्टी में आप सपरिवार उत्तर पूर्व की सैर करें और स्वम अनुभव करें कि यह कितने अच्छे और सरल लोग हैं. इन्हें हमारे स्नेह और प्रेम की आवशयकता है.

अंत में , मैं आपसे आग्रह करता हूँ कि अगर आपके पड़ोस में कोई उत्तर पूर्व का परिवार रहता है तो उनसे मिले और उन्हें आशवस्त करें कि भरता हम सबका है और हम सब समान है.

Post your comment

1 Comments

About The Author

Photograph

Shamim Akhtar

Public & Government Service

Delhi ,  INDIA

A solo wanderer, a biker and a photographer ! ... 


Half fed as a middle level Civil Servant with Government of Delhi 

Every thing expressed and to be expressed here is purely personal views.

 

View More 

Samsung

Recent Blogs By Author

Sony